Short Stories For Kids – हिंदी की लघु कहानियाँ बच्चों के लिए 🐒🛠

प्रिय दोस्तों मै  आज आपके लिए लेकर आया हूँ Short Stories For Kids |  ये कहानियाँ बहुत रोचक और मज़ेदार है | इन कहानियो से हमें जीवन की नैतिक शिक्षा का ज्ञान होता है | आईये शुरू करते है  Short Stories For Kids

Short Stories For Kids 

राजा ब्रुस – Short Stories For Kids 👨‍🏭

एक बार राजा ब्रुस अपने शत्रुओं से हार गया। स्वय को बचाने के लिए उसने एक गुफा में शरण ली। वह बहुत दुखी था क्योंकि वह अपना पूरा साहस एवं हिम्मत खो चुका था। एक दिन वह गुफा के अंदर लेटा हुआ था।

तभी उसने देखा एक मकड़ी जाल बनाने के लिए कडा परिश्रम कर रही है। वह जाल बनाने के लिए बार-बार दीवार पर चढती, लेकिन जाल का धागा टूट जाता और वह नीचे गिर पड़ती। ऐसा कई बार हुआ। लेकिन मकड़ी हिम्मत नहीं हार रही थी। इस प्रकार वह निरन्तर प्रयास करती रही। अंतत: उसने अपना वह जाल पूरा कर ही लिया।

ये देखकर राजा ने सोचा, ‘जब छोटी-सी मकड़ी बार-बार प्रयास करते रहने के कारण सफल हो सकती है, तो मैं क्यों नहीं?’ तब उसने एक बार फिर दुश्मन पर हमला करने का निर्णय लिया।

राजा ने फिर से अपनी बची-खुची शक्ति व सेना बटोरी और दुश्मन से युद्ध किया। अन्तत: जीत उसी की हुई | उसे वह मकड़ी हमेशा याद रही, जो उसे जिंदगी का एक बड़ा सबक सिखा गई थी कि जब तक सफलता प्राप्त न हो, तब तक निराश हुए बिना लगातार प्रयास करते रहना चाहिए।

 अपनी मदद आप -Short Stories For Kids 👶

एक चिड़िया अपने बच्चों के साथ एक मक्का के खेत में रहती थी। एक दिन फसल पकने पर चिड़िया के बच्चों ने किसान को अपने बेटे से कहते हुए सुना कल हम अपने रिश्तेदारों को साथ लाकर मक्के की कटाई करेंगे।”

उन्होंने अपनी माँ से कहा, ‘माँ, हमें यह जगह शीघ्र ही छोड़ देनी चाहिए। आज किसान मक्का की कटाई की बात कह रहा था।” उनकी माँ बोली,‘डरो नहीं। कल वह कटाई शुरू नहीं कर पाएगा।’’ अगले दिन किसान आया उसके रिश्तेदार नहीं आए थे।

वह अपने बेटे से बोला कल हम अपने पड़ोसियों को लाकर मक्का की कटाई करेंगे।” बच्चे फिर अपनी माँ से बोले‘‘माँ, अब हमें यह खेत अवश्य ही छोड़ देना चाहिए। उनकी माँ फिर बोली,‘‘ अभी नहीं।” किसान की सहायता के लिए उसके पड़ोसी भी नहीं आए |

तब अगले दिन किसान बोला, ‘‘कल हम स्वय ही मक्का की कटाई करेंगे।” माँ बोली,‘‘अब हमें यह स्थान छोड़ देना चाहिए। कल किसान अवश्य ही मक्का की कटाई करेगा क्योंकि वह स्वयं कार्य
करने की महत्ता समझ गया है।’फिर वे वहाँ से उड़ गए।

अन्य लेख

 ऐसे बनी बिल्ली पालतू – Short Stories For Kids 🐱

बहुत पहले बिल्ली दूसरे जंगली जानवरों की तरह जंगल में ही रहती थी।  इसलिए वह हमेशा ताकतवर जानवरों के साथ दोस्ती करना चाहता था।रहते-रहते उसने विश्लेषण किया कि जंगल के राजा शेर से सभा जानवर डरते हैं। यह सोचकर वह शेर की दोस्त बन गई |

एक दिन शेर और बिल्ली दोनों साथ साथ  झपकी ले रहे थे। तभी वहाँ से एक हाथी होकर गुजरा। अन्य जानवरों की तरह ही शेर ने भी चुपचाप हाथी को जाने का रास्ता दे दिया | बिल्ली को लगा कि हाथी शेर से भी ज्यादा ताकतवर है। इसलिए वह हाथी की दोस्त बन गई |

एक दिन बिल्ली और हाथी झील में नहा रहे थे। तभी हाथी ने एक आवाज सुनी और शिकारी को नजदीक जानकर वहाँ से भाग गया। अब बिल्ली ने हाथी को भी छोड़ दिया और शिकारी के साथ ही रहने लगी।

वह समझती थी कि शिकारी सबसे अधिक शक्तिशाली है, क्योंकि वह हाथी का भी शिकार कर सकता है। एक दिन उसने शिकारी के घर में एक चूहे को देखा प्रसन्न और उसे मार दिया। यह देखकर शिकारी और उसकी पत्नी बड़े प्र्सन हुए |उन्हें चूहे से निजात जो मिल गई थी। बस तभी से बिल्ली एक पालतू जानवर बन गई ।

 मूर्ख कौआ – Short Stories For Kids 🦅

एक कौआ था। वह अपने काले रंग को लेकर हीनभावना से ग्रस्त था। वह जानता था कि अपने काले रंग के कारण ही वह भद्दा दिखता है। उसकी इच्छा थी कि वह भी दूसरे रंग-बिरंगे पक्षियों की तरह रंगीन हो जाए।

एक दिन कौए को जमीन पर मोर के कुछ पंख पड़े हुए मिले उसने उन्हें उठाया और अपने दोस्त बंदर के पास गया। उसने बंदर से पंख लगाने को कहा। बंदर ने पंख लगाने में कौए की सहायता की। फिर कौआ मोरों के पास गया और बोला, “क्या मैं हो अब तुम्हारे समूह में शामिल सकता हूँ। तो मैं भी तुम लोगों की तरह सुंदर एवं रंगीन हो गया हूं।’’

कौए की इस हरकत पर मोरों को बहुत गुस्सा आया और उन्होंने उसे वहाँ से भगा दिया। अब कौए के पास अपने दोस्तों के पास वापस जाने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं था। वह अपने दोस्तों के पास गया और बोला, ‘‘दोस्तों, मैं वापस आ गया हूं।”

लेकिन कौए बोले, ‘‘यहाँ से चले जाओ। हम तुम्हें अपने समूह में शामिल नहीं करेंगे, क्योंकि तुम्हें अपने ऊपर गर्व नहीं है।”इस तरह से बेचारा कौआ अकेला का अकेला ही रह गया।

जादुई बर्तन – Short Stories For Kids 🍴

एक दिन एक किसान एवं उसकी पत्नी खेत जोतकर उसमें बीज बो रहे थे। जब वे खेत में हल चला रहे थे, तभी हल से कुछ टकराया। उन्होंने देखा तो वह ताँबे का एक बड़ा-सा खाली बर्तन था। वे उस बर्तन को घर ले आए।

रास्ते में उन्होंने बर्तन में हल रख दिया। जब वे घर पहुँचे तो उन्होंने बर्तन को देखा। बर्तन के अन्दर दो हल देखकर वह दोनों आश्चर्यचकित रह गए। उसकी पत्नी बोली, ‘‘मुझे लगता है, यह एक जादुई बर्तन है। हम इस बर्तन में जो कुछ भी रखेंगे, वह दोगुना हो जाएगा।”

अब किसान ने बर्तन के अन्दर पैसे रख दिए और वे दोगुने हो गए। फिर उसने और पैसे रखे वे भी दोगुने हो गए। अब तो वे दोनों पैसे पर पैसा बनाने लगे। अगले दिन बदकिस्मती से किसान की पत्नी पैर फिसलने के कारण उस बर्तन में जा गिरी।

किसान ने उसे बाहर निकाला, परन्तु अब उस बर्तन में एक पत्नी और थी। उसने दूसरी पत्नी को भी बाहर निकाला। जादुई बर्तन के कारण व्यक्ति बड़ी मुसीबत में फंस गया था। किसी ने ठीक ही कहा है।
वह कोई चीज लाभदायक होने के साथ हानिकारक भी हो सकती है।

चौकीदार कुत्ता – Short Stories For Kids 🐕

एक किसान के पास भेड़ों का एक झुण्ड था। किसान अपनी भेड़ों को एक भेड़िए से बचाने का बड़ा प्रयास करता, लेकिन असफल रहता। भेड़िया सिर्फ एक भेड़ को छोड़कर अब तक उसकी सारी भेड़ों को खा चुका था।

एक दिन किसान अपनी पत्नी से बोला, ‘‘मैं इस आखिरी भेड़ को बेच दूँगा ।’ भेड़ किसान की यह बात सुनकर सोचने लगी, ‘इस कसाई के हाथों मारे जाने से बेहतर है कि मैं आजाद रहूँ’ इसलिए भेड़ चौकीदार कुत्ते को साथ लेकर रात को वहाँ से चली गई। तभी भेड़िए की निगाह उन पर पड़ी | वह भेड़ को अपना भोजन बनाना चाहता था, परन्तु कुत्ते की उपस्थिति में यह संभव नहीं था।

इसलिए वह भेड़ से बोला, ‘‘हे भेड यहाँ आओ मैं तुम्हारा दोस्त बनना चाहता हूं।” कुत्ता भेड़िए की मंशा भाँप गया। कुत्ते ने पास के ही पेड़ के नीचे एक शिकजा लगा देखाअत: वह बोला,‘‘यदि तुम
उस पवित्र पेड़ को छू लोगे तो हम तुम पर विश्वास कर लेंगे” भेड़िया जैसे ही पेड़ को छूने गया वह शिकंजे में फंस गया।

अब किसान की भी समस्या हल हो गई। वह खुशी-खुशी भेड़ और कुत्ते को वापस ले आया

कुएँ की कहानी – Short Stories For Kids 🍮

एक बार की बात है। एक राज्य में भयंकर सूखा पड़ गया। राजा ने अपने सिपाहियों को सभी जगह पानी ढूंढने का आदेश दिया। एक सिपाही बाजार पहुँचा और उसने एक दुकानदार से पूछा,‘‘मुझे पानी कहाँ मिलेगा?’ दुकानदार बोला,‘‘यहाँ पानी तो कहीं भी नहीं है। यदि तुम चाहो तो बर्फ की यह सिल्ली ले सकते हो।

वास्तव में यह जमा हुआ पानी है।’सिपाही अपने साथ बर्फ लेकर चल दिया। न तो उसने और न ही राजा ने पहले कभी बर्फ देखी थी। रास्ते में बर्फ की सिल्ली पिघलकर बर्फ के छोटे-छोटे टुकड़ों में परिवर्तित हो गई बर्फ के छोटे-छोटे टुकड़ों को देखकर राजा ने सोचा कि ये अवश्य ही पानी के बीज हैं।

इसलिए उसने अपने सिपाहियों को बर्फ के उन टुकड़ों को भूमि में बो देने का आदेश दिया जिससे पानी के पेड़ की प्राप्ति हो सके। लेकिन बोते-बोते बर्फ की गूंदें पिघल गईं और भूमि ने जल को अवशोषित
कर लिया। जब बर्फ का पेड़ नहीं उगा तो राजा ने अपने सिपाहियों से बर्फ वापस प्राप्त करने के लिए जमीन खोदने को कहा ।

उन्होंने भूमि को गहराई तक खोदा और बर्फ की जगह उसमें पानी पाया। पानी देखकर वे बड़े खुश हुए। इस प्रकार से कुओं की रचना हुई।

धैर्य का लाभ – Short Stories For Kids 🎂

एक बार एक राजा अपना निजी सहायक नियुक्त करना चाहता था। इस वजह में उम्मीदवारों की भारी भीड़ जमा हो गई | राजा सभी उम्मीदवारों की परीक्षा लेने के लिए उन्हें एक तालाब पर ले गया |और बोला, ‘जो कोई इस बर्तन को तालाब के पानी से भर देगा, मैं उसी को अपना निजी सहायक नियुक्त करेंगा।

लेकिन हाँ, मैं आप सबको यह अवश्य बताना चाहूँगा कि इस बर्तन में एक छेद है।” कुछ लोग तो कोशिश किए बिना ही वहाँ से चले गए। कुछ लोग कोशिश करने के बाद वहाँ से चले गए  | लेकिन एक व्यक्ति धैर्यपूर्वक बर्तन में पानी भरने की कोशिश में लगा रहा। ” उसने बर्तन में पानी भरा और उसे जमीन पर हल्का-सा गाड़ कर रख दिया।

लेकिन कुछ ही देर में पूरा पानी जमीन पर फैल गया। इसी तरह कोशिश करते-करते अन्तत: तालाब खाली हो गया। उस व्यक्ति को खाली तालाब से एक हीरे की अँगूठी मिली। उसने अँगूठी राजा को दे दी।

राजा उसकी ईमानदारी पर प्रसन्न होते हुए बोला, यह अँगूठी तुम ही रख लो। यह तुम्हारे धैर्य एवं परिश्रम का इनाम है। और आज से तुम मेरे निजी सहायक हो।’किसी ने ठीक ही कहा है कि धैर्य का फल मीठा होता है।

लाभ या हानि – Short Stories For Kids 🥊

अर्जुन एक दुकान पर मोमबत्ती लेने गया। उसने दो मोमबत्तियां खरीदीं  प्रत्येक मोमबत्ती की कीमत तीन रुपए थी। उसने दुकानदार को दस रुपए दिए। बदले में दुकानदार ने उसे चार रुपए वापस कर दिए। उनमें एक दो रुपए का सिक्का एवं दो एक-एक रुपए के सिक्के थे। जब वह घर पहुचा तो वहाँ बिजली नहीं थी।

इसलिए अर्जुन ने एक मोमबत्ती जलाई। परन्तु उसका एक रुपए का एक सिक्का कहीं गिर गया था। उसने चारों तरफ देखा, लेकिन उसे वह सिक्का कहीं नहीं मिला। धीरे-धीरे पूरी मोमबत्ती जल गई। लेकिन अर्जुन को वह सिक्का नहीं मिला। अब उसने दूसरी मोमबत्ती भी जलाई और फिर सिक्के को ढूंढने लगा।

कुछ समय बाद दूसरी मोमबत्ती भी पूरी जल गई, परन्तु किस्मत से तब तक अर्जुन को एक रुपए का सिक्का मिल गया था । लेकिन अर्जुन ने एक रुपए के लिए दो मोमबत्तियाँ जला दी थीं, जिनकी कीमत छह रुपए थी। अर्जुन सोचने लगा कि उसे लाभ हुआ या हानि।

अब अर्जुन समझ गया था कि कोई भी निर्णय हमेशा सोच-समझकर लेना चाहिए ताकि नुकसान से बचा जा सके।

 बुद्धिमान सोनू – Short Stories For Kids 🏋️‍♀️

सोनू एक चालाक, नटखट एवं बुद्धिमान लड़का था। उसकी हाजिरजवाबी देखकर हर कोई आश्चर्यचकित हो जाता था। एक दिन सोनू की माँ ने उसे कुछ फल लाने के लिए बाजार भेजा। लेकिन फल विक्रेता बेईमान और धोखेबाज था। उसने उसे सिर्फ नौ सौ ग्राम सेब ही तोलकर दिए। सर्तक सोनू ने ये देख लिया वह बोला, “ये एक किलो सेब नहीं हैं। ये कुछ कम दिखते हैं।”

फल विक्रेता बोला,‘‘नहीं फल एकदम सही तोले हैं और वैसे भी यदि कम भी हैं, तो तुम्हें फल उठाने में आसानी होगी। इसलिए जितने हैं उतने चुपचाप लेकर चलते बनो।” सोनू चालाक था। उसने भी फल विक्रेता को नौ सौ ग्राम सेब के ही पैसे दिए |

यह देखकर फल विक्रेता बोला,‘तुमने मुझे कम पैसे दिए हैं।” सोनू भी अपने जवाब के साथ तैयार था। वह बोला, ‘नहीं, कीमत एकदम सही है। वैसे भी यदि पैसे कम हैं तो तुम्हें पैसे गिनने में आसानी रहेगी”
सोनू का बुद्धिमत्तापूर्ण जवाब सुनकर फल विक्रेता आश्चर्यचकित रह गया।

Few Words Of govyojana.in –  मुझे उम्मीद है कि आप हमारे लेख को पसंद करेंगे। यदि आप इस पोस्ट का आनंद लेते हैं, तो मैं बहुत आभारी हूं यदि आप इसे किसी मित्र को ईमेल करके या ट्विटर या फेसबुक पर साझा करके इसे फैलाने में मदद करेंगे। कृपया नवीनतम अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारी साइट पर रेगुलर विजिट जारी रखें। हम इस ब्लॉग पर नई और सत्यापित जानकारी प्रदान कर रहे हैं। यदि आपके पास कोई समस्या है या सुझाव चाहते हैं तो आप हमारे टिप्पणी बॉक्स पर टिप्पणी कर सकते हैं। 

 🙍💐🌼🍁 धन्यवाद! कृप्या दोबारा विजिट करे और साझा करें 🎭🌿🌴💽🙏

 

Post Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *