50+ Kids Story – बच्चों के लिए महत्वपूर्ण और रोमांचक कहानियाँ 🐯🐦

प्रिय दोस्तों मै  आज आपके लिए लेकर आया हूँ Kids Story |  ये कहानियाँ बहुत रोचक और मज़ेदार है | इन कहानियो से हमें जीवन की नैतिक शिक्षा का ज्ञान होता है | आईये शुरू करते है Kids Story

KIDS STORY

 बड़ा बेवकूफ  -Kids Story 🤩

एक दिन सेठ रामलाल शहर गया। उसे एक जौहरी की दुकान में बहुत ही बढ़िया किस्म के हीरे दिखाई दिए। उसने दुकान के अन्दर जाकर दुकानदार से पूछा,‘‘इन हीरों की कीमत क्या है?’
जौहरी ने जवाब दिया,‘‘दो हजार रुपये” रामलाल बड़ा कंजूस था। वह बोला,‘‘मैं इन हीरों के सिर्फ एक हजार रुपये दूँगा |

लेकिन जौहरी ने एक हजार रुपये में हीरे बेचने से मना कर दिया । रामलाल ने सोचा, ‘मैं एक बार फिर शाम को आऊँगा। हो सकता है तब यह मुझे हीरे एक हजार रुपये में दे दे।” शाम के समय रामलाल फिर उस जौहरी के पास गया और बोला, “क्या तुम वे मुझे हीरे एक हजार रुपये में देना चाहोगे?’

जौहरी बोला”नहीं, मुझे माफ कीजिए मैं नहीं दे सकता | मैं उन्हें पहले ही पाच हजार रुपये में बेच चुका हूँ।” रामलाल बोला, “तुम तो बड़े बेवकूफ हो। उन हीरों की वास्तविक कीमत पचास हजार रुपये थी।”

जौहरी बोला, ‘श्रीमान तो फिर सुबह ही आपने वे हीरे दो हजार रुपये मे क्यों न खरीद लिए ? आप तो मुझसे भी बड़े बेवकूफ हैं।

Kids Story – ओखली -मूसल   🍿

कान्हा बहुत गरीब था, परन्तु फिर भी वह आए दिन लोगों को अपने घर खाने पर बुला लेता। एक दिन उसने अपने तीन दोस्तों को अपने घर भोजन पर आमंत्रित किया | उसके घर में पकाने के लिए कुछ नहीं था।

इसलिए वह सामान खरीदने के लिए बाजार चला गया। जब उसके मित्र उसके घर पहुंचे | वह उस वक्त तक वापिस नहीं लौटा था। कान्हा की पत्नी ने उनका स्वागत किया। उन्होंने उसके घर में एक ओखली
एवं मूसल देखी। जब उन्होंने उसके बारे में कान्हा की पत्नी से पूछा तो वह बोली, ‘‘मेरे पति ओखली और मूसल की भगवान की तरह पूजा करते हैं।

प्रार्थना के बाद वह इनसे मेहमानों को मारते हैं।” यह सुनकर वे तीनों वहाँ से भाग गए। रास्ते में कान्हा ने उन्हें भागते हुए देखा उसने अपनी पत्नी से कारण पूछा तो उसकी पत्नी बोली,‘‘वे ओखली माँग रहे थे।

जब मैंने देने से मना कर दिया तो वे गुस्से में यहाँ से चले गए” कान्हा ने ओखली-मूसल उठाया और उन्हें देने के लिए उनके पीछे गया। लेकिन उसके दोस्त और तेजी से भागकर आँखों से ओझल हो गए।

 रामू की योजना -Kids Story  🕵

रामू एक गरीब किसान था। एक दिन शहर जाते समय जब वह जंगल से गुजर रहा था, तभी अचानक तीन चोर उसका रास्ता रोककर खड़े हो गए | वे उसे लूटना चाहते थे। उन्होंने उसके सारे पैसे ले लिये और उसे मारने की कोशिश की।

लेकिन रामू बड़ा चतुर था। उसने अपने दिमाग में एक योजना बनाई और जोर-जोर से हंसने लगा। वह बोला, “तुम मुझे मारने की जितनी भी कोशिश कर लो, तुम मुझे मार नहीं सकते हो। एक ज्योतिषी ने मुझसे कहा है कि मुझे सिर्फ तीन अंधे व्यक्ति ही मार सकते हैं।”

चोर बेवकूफ थे। इसलिए उन्होंने अंधे बनने के लिए अपनी-अपनी आंखों पर कपड़ा बांध लिया। रामू की योजना कार्य कर गई थी। वह वहाँ से भाग खड़ा हुआ। जैसे ही डाकुओं को उसके भागने का अहसास हुआ तो उन्होंने उसका पीछा किया |

रामू उन्हें दौड़ाते-दौड़ाते मुख्य सड़क तक ले आया। वहाँ से पुलिस की गाड़ी गुजर रही थी। उसने पुलिस की गाड़ी रुकवाई और उन्हें सब कुछ बता दिया। पुलिस ने डाकुओं को पकड़कर जेल में बंद कर दिया। रामू को अपना पैसा वापस मिल गया और पुरस्कार स्वरूप एक हजार रुपये भी मिले। उस पैसे से उसने अपनी जरूरत का सामान खरीदा।

चतुराईपूर्ण जवाब – Kids Story  🧙‍♀️

एक बार एक गरीब ब्राह्मण की पत्नी राजा के पास गयी और बोली ”महाराज मैंने स्वप्न में देखा कि आपको सम्राट की उपाधि मिल गयी है। और चारों तरफ आपकी जय-जयकार हो रही है।” राजा यह सुनकर बहुत खुश हुआ। इसलिए उसने ब्राह्मण की पत्नी को पाँच सौ स्वर्ण मुद्राएँ दीं। ब्राह्मण की पत्नी ने वह भेंट ली और खुशी-खुशी अपने घर की ओर चल दी।

उसके घर के रास्ते में एक छोटा जंगल पड़ता था। वह मुद्राएँ गिनने में व्यस्त थी कि तभी एक मुद्रा झाड़ी में गिर गयी। मुद्रा को ढूंढते-ढूंढते उसे शाम हो गई। तभी राजा भी किसी कार्यवश उसी मार्ग से होकर गुजरा। राजा ने देखा कि ब्राह्मण की पत्नी सुबह से एक मुद्रा को ढूंढ रही है। क्रोधित राजा ने उससे स्वर्ण मुद्राएँ वापस लेते हुए कहा, ” तुमने अपना पूरा दिन सिर्फ एक मुद्रा के लिए बर्बाद कर दिया तुम जैसी लालचीमहिला इस सम्मान के योग्य ही नहीं है।

लेकिन ब्राह्मण की पत्नी भी बड़ी चतुर थी। उसने तुरंत चतुरतापूर्ण जवाब दिया, ‘महाराज शाही उपहार किसी के पैरों में न आए सिर्फ इसलिए मैं वह स्वर्ण मुद्रा ढूंढ रही थी।’ राजा उसके जवाब से बड़ा प्रभावित हुआ और उसे सौ स्वर्णमुद्राएँ और दीं।

 सजा का डर -Kids Story  🙅‍♂️

अंजलि एक धनी व्यक्ति के घर में नौकरानी का कार्य करती थी। लेकिन उसे खाना चुराने की बड़ी बुरी आदत थी। एक दिन उसका मालिक परिवार सहित कहीं बाहर गया हुआ था। अंजलि घर पर अकेली थी। उसने रसोई में जाकर फ्रिज खोला। पहले उसने फ्रिज से निकालकर जूस पिया और फिर मिठाईयाँ खाई। उसने फल की टोकरी में दो केले देखे तो उन्हें भी खा लिया।

तभी दरवाजे की घंटी बजी। अंजलि घंटी सुनकर डर गई कि उसके मालिक लौट आए हैं। वह समझ नहीं पा रही थी कि केले के छिलकों का क्या करे। उसने सोचा, ‘यदि मैं इन्हें छुपाने गई तो दरवाजा
खोलने में देर हो जाएगी। यदि ऐसे ही दरवाजा खोलैंगी तो पकड़ी जाऊंगी।’

इसलिए अंजलि ने केले के छिलके खा लिए और फिर दरवाजा खोला। दरवाजे पर पोस्टमैन था। वह एक पार्सल देने आया था। जब वह चला गया तो अंजलि ने सोचा, ‘एक चोर को हमेशा पकड़े जाने का डर होता है।

आज मुझे इस डर के कारण केले के छिलके भी खाने पड़े। आज के बाद मैं कभी भी चोरी नहीं करूंगी।’

नकली साँप -Kids Story  🐍

राहुल को मुंबई जाना था। जब वह नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पहुचा तो देखा गाड़ी यात्रियों से भर चुकी थी।डिब्बों में बिलकुल भी जगह नहीं थी। राहुल ने एक योजना बनाई। उसने रबड का साँप खरीदकर एक डिब्बे में फेंक दिया। सभी यात्री डर गए और गाड़ी से उतरकर भागने लगे |

फिर राहुल एक खाली बर्थ पर आराम से लेट गया। जल्दी ही उसे नींद आ आा गई। कुछ देर बाद जब राहुल जागा तो उसने सोचा गाड़ी किसी स्टेशन पर रुकी है। उसने नीचे उतरकर एक टिकट निरीक्षक से पूछा, ‘‘ये कौन-सा स्टेशन है?” टिकट निरीक्षक बोला, ‘‘यह नई दिल्ली रेलवे स्टेशन है।”

राहुल चौंककर बोला,‘‘क्या? ‘ टिकट निरीक्षक ने बताया, ‘इस डिब्बे में एक साँप था। इसलिए इस डिब्बे को मुंबई जाने वाली गाड़ी से अलग कर दिया गया और उसकी जगह दूसरा डिब्बा लगाकर गाड़ी को भेज दिया गया।”

इस तरह अपनी चालाकी की वजह से राहुल वहीं रह गया।

Kids Story – ईमानदार कोषाध्यक्ष 🧟‍♂️

राजा अपने राजकोष के लिए एक ईमानदार कोषाध्यक्ष चाहता था। इसलिए उसने पूरे राज्य में घोषणा करवा दी कि जो भी व्यक्ति राजमहल में नौकरी करने का इच्छुक हो, वह अगले दिन महल में उपस्थित हो। राजा की घोषणा सुनकर बहुत सारे उम्मीदवार राजमहल पहुँच गए|

सभी उम्मीदवारों को एक अंधेरे रास्ते से होकर राजदरबार में पहुँचना था। उस अंधेरे रास्ते में सोने के सिक्के एवं हीरे-जवाहरातों से भरे कई सारे बर्तन रखे हुए थे। उन सब उम्मीदवारों के दरबार में पहुँचने पर राजा ने अपने सिपाहियों को सभी की , तलाशी लेने का आदेश दिया। सभी की जेब से स्वर्णमुद्राएँ एवं हीरे-जवाहरात मिले, जो कि उन्होंने अंधेरे रास्ते में रखे बर्तनों से चुराए थे।

उनमें, सिर्फ एक ही युवक ऐसा था जिसके पास से न तो कोई स्वर्णमुद्रा मिली और न ही कोई हीरे-जवाहरात। राजा ने आदेश दिया, ‘‘सिपाहियों, इन सभी बेईमान व्यक्तियों को दस-दस कोड़े मारे जाएँ।

फिर राजा ने उस ईमानदार व्यक्ति को अपना कोषाध्यक्ष नियुक्त कर लिया।”

अन्य लेख

गुलाब और  काटे  – Kids Story  🌸

एक छोटा लड़का अपने घर के बगीचे में खेल रहा था। उसने एक गुलाब के पौधे को फूलों से लदा हुआ देखा तो वह उसकी ओर आकर्षित हुआ। उसे पौधे पर खिले हुए गुलाबी फूल बड़े प्यारे लग रहे थे। उसका मन हुआ कि उनमें से कुछ गुलाब तोड़ ले।

उसने दो गुलाब तो तोड़ लिए लेकिन, तीसरा गुलाब तोड़ते समय उसकी उंगली में काँटा चुभ गया। उसने रोना शुरू कर दिया। उसका रोना सुनकर उसकी माँ दौड़ती हुई बाहर आई और बोली,
”बेटा, जिंदगी में कुछ पाने के लिए बहुत-सी बाधाओं का सामना करना पड़ता है। जैसे काँटों की चुभन के बाद ही तुम्हें सुंदर गुलाब मिले |

मार्ग में आने वाली बाधाओं एवं कठिन परिस्थितियों से युक्तिपूर्वक निपटना चाहिए। तुम्हें एक हाथ से काँटे हटाने चाहिए थे और दूसरे हाथ से फूल तोड़ने चाहिए थे। तब तुम्हारे हाथ में काँटे नहीं चुभते।’’
मा का बात सुनकर बच्चे को सबक मिल गया था कि जिंदगी में अपने प्रयास एवं बुद्धिमत्ता से राह के काँटों को हटाने पर जिंदगी गुलाबों की सेज बन जाती है।

 🐘 समस्या का समाधान  – Kids Story 

एक बार एक काली और एक भूरे रंग की बकरी नहर पर बने लकड़ी के पुल से होकर नहर पार कर रही थीं। पुल बड़ा सँकरा था। एक वक्त में सिर्फ एक ही व्यक्ति पुल को पार कर सकता था। काली बकरी ने गुर्राते हुए कहा ‘मेरे रास्ते से हट जाओ, पहले मुझे जाने दो।’’ यह सुनकर भूरी बकरी बोली‘तुम वापस चली जाओ, वरना मैं तुम्हें नहर में फेंक देंगी।”

वे देर तक थोड़ी यूं ही एक-दूसरे को धमकाती रहीं। फिर वे एक दूसरे से भिड़ गई। फलस्वरूप दोनों ने ही अपना संतुलन खो दिया और नहर में गिर गईं। इस तरह वे दोनों नहर के गहरे जल
में डूब कर मर गईं |

वे बकरियाँ नहीं जानती थीं कि सीमा से अधिक गुस्सा दुख का कारण है। एक दिन दो अन्य बकरियाँ उसी पुल से गुजर रही थीं। वे दोनों ही समझदार थीं। उनमें से एक बैठ गई और दूसरी को अपने शरीर के ऊपर से होकर आगे जाने दिया।

फिर पहली बकरी उठी और नहर पार हो गयी। इस प्रकार दोनों ने पुल को सुरक्षित पार कर लिया। ये बकरियाँ जानती थीं कि समस्याओं का हल शांति से करना चाहिए।

 बंदर का न्याय -Kids Story  🐒

एक दिन दो बिल्लियों को रोटी का एक टुकड़ा मिला। एक ने उसे पकड़ने के लिए छलाँग लगाई और दूसरी ने रोटी पर झपट्टा मारा। पहली बिल्ली बोली, ‘‘यह रोटी का टुकड़ा मेरा है, क्योंकि मैंने इसे पहले
पकडा था।” दूसरी बिल्ली बोली, ‘‘लेकिन मैंने रोटी के टुकड़े को पहले देखा था, इसलिए यह रोटी मेरी है।”

जब वे दोनों बहस कर रही थीं, उस समय एक बंदर वहाँ से गुजर रहा था। बिल्लियों को झगड़ते देखकर उसने उनसे कहा”यदि कहो तो मैं जज बनकर तुम्हारे झगड़े को सुलझा हूं। मैंने इस तरह के कई झगड़े सुलझाए हैं।” बिल्लियों ने उसकी बात मान ली और रोटी का टुकड़ा उसे दे दिया।

उसने रोटी के बराबर-बराबर दो टुकड़े किए फिर अपने सिर को खुजलाते हुए वह बोला,‘‘ये दोनों टुकड़े बराबर नहीं हैं। एक टुकड़ा दूसरे से बड़ा है।”यह कहकर उसने रोटी के बड़े टुकड़े को
थोड़ा-सा खा लिया। ऐसा करते-करते रोटी के बस दो छोटे टुकड़े रह गए। तब वह बोला, ‘‘मैं तुम्हें इतने छोटे-छोटे टुकड़े कैसे दे सकता हूं?

मैं इन्हें स्वयं ! ही खा लेता हूँ।” यह कहकर उसने पूरी का रोटी खा ली और वहाँ से चला गया।
हमेशा दो लोगों के झगड़े में तीसरा व्यक्ति फायदा उठाता है।

Few Words Of govyojana.in –  मुझे उम्मीद है कि आप हमारे लेख को पसंद करेंगे। यदि आप इस पोस्ट का आनंद लेते हैं, तो मैं बहुत आभारी हूं यदि आप इसे किसी मित्र को ईमेल करके या ट्विटर या फेसबुक पर साझा करके इसे फैलाने में मदद करेंगे। कृपया नवीनतम अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारी साइट पर रेगुलर विजिट जारी रखें। हम इस ब्लॉग पर नई और सत्यापित जानकारी प्रदान कर रहे हैं। यदि आपके पास कोई समस्या है या सुझाव चाहते हैं तो आप हमारे टिप्पणी बॉक्स पर टिप्पणी कर सकते हैं। 

 🙍💐🌼🍁 धन्यवाद! कृप्या दोबारा विजिट करे और साझा करें 🎭🌿🌴💽🙏

 

Post Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *