Hindi Essay On Bharat – मेरा प्यारा और महान देश भारत का निबध 🇮🇳

प्रिय दोस्तों मै  आज आपके लिए लेकर आया हूँ  Hindi Essay On Bharat |  हमारा ये लेख बहुत ही रोचक और ज्ञानवर्दक है |  इन प्रस्ताव से हमें जीवन की नैतिक शिक्षा का ज्ञान होता है | आईये शुरू करते है Hindi Essay On Bharat . हमारे ये प्रस्ताव आपके स्कूल के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है |

Hindi Essay On Bharat

हमारा प्यारा भारत -Hindi Essay On Bharat 🇮🇳

भारत देश हमारे लिए स्वर्ग के समान सुंदर है। इसने हमें जन्म दिया। इसकी गोद में पलकर हम बड़े हुए हैं। इसके जल से -पोषण हुआ न इसे अन्नहमारा पालनहै। फिर हम क्यों न प्यार करें !

इस देश का नाम भारत या भारतवर्ष है। पहले इसका नाम आर्यावर्त था। कहते हैं, परम त्यागी ऋषभस्वामी के न्यायकारी पुत्र भरत के नाम पर इसका नाम भारत हो गया। कुछ अन्य विद्वानों का मत है कि दुष्यंत-शकुंतला के पुत्र प्रतापी भरत के नाम पर इस देश का नाम भारत प्रसिद्ध हुआ। हिंदूबहुल होने के कारण इसे हिंदुस्तान भी कहा जाता है और अंग्रेजी में इसे “इंडिया” कहा जाता है।

Hindi Essay On Bharat – भारत की गौरव गाथा  🏅

आधुनिक भारत उत्तर में कश्मीर से लेकर दक्षिण में कन्याकुमारी तक और पूर्व में मणिपुर से लेकर पश्चिम में गुजरात-राजस्थान तक फैला हुआ है। उत्तर में हिमालय पर्वत भारतमाता के सिर पर हिममुकुट के समान सुशोभित है तथा दक्षिण में हिंद महासागर इसके चरणों को निरंतर धोता है।

हमारा प्यारा भारत संसार के बड़े राष्ट्रों में से एक है। भारत ही संसार का सबसे बड़ा प्रजातांत्रिक राष्ट्र है। जनसंख्या की दृष्टि से भारत का संसार के देशों में दूसरा स्थान है (प्रथम स्थान चीन का है)।

भारत में धर्मनिरपेक्षता -Hindi Essay On Bharat  🙇‍♀️

भारत में प्राय: सभी धर्मों के लोग परस्पर मिल-जुलकर रहते हैं । यद्यपि यहाँ अधिक संख्या हिंदुओं की है, तथापि मुसलमान, ईसाई,पारसी, यहूदी आदि जो भी इस देश के स्थायी निवासी हैं और समान अधिकार प्राप्त करके यहाँ रहते हैं। यहाँ सभी धर्मा वलंबियों को अपनी अपनी उपासना-पद्धति तथा सामाजिक व्यवस्था का अनुसरण करने का पूर्ण अधिकार प्राप्त है। भारत का आदर्श वाक्य “वसुधैव कुटुंबकम्है” जिसका अर्थ है-सारा संसार एक कुटुंब के समान है।

प्राकृतिक सुंदरता की दृष्टि से भारत एक अदभुत देश है। यहाँ हिमालय का पर्वतीय प्रदेश है,  गंगा -यमुना का समतल मैदान है, पर्वत एवं समतल मिश्रित दक्षिण का पठार है, राजस्थान का रेगिस्तान है । इस प्रकार विभिन्न ढंग के भूमि भाग यहाँ विद्यमान हैं और विभिन्न का वायुमंडल यहाँ पाया जाता है । यही एक देश है जहाँ समय-समय पर छ: ऋतुएँ आती हैं और अपनी-अपनी विशेषताओं से इस देश को अनुप्राणित करती हैं।

भारत के पर्वत, नदियाँ, वन, उपवन,हरे-भरे मैदान,रेगिस्तान,समुद्रतट की विविध प्रकार की शोभा के अंग हैं। धरती का स्वर्ग एक ओर कश्मीर में दिखाई पड़ता है तो दूसरी ओर केरल में। संसार की सबसे ऊँची पर्वत चोटी माउंट एवरेस्ट भारत में है, जो संसार के सबसे ऊंचे पर्वत हिमालय का एक अंग है। यहाँ अनेक सरिताएँ हैं, जिनमें सतलुज ,व्यास, रावी, चिनाब, गंगा, यमुना, कावेरी, कृष्णा, नर्मदा आदि प्रसिद्ध हैं।

भारत की महानता -Hindi Essay On Bharat  💂‍♀️

भारत एक अत्यंत प्राचीन देश है। यहाँ अनेक महापुरुष हो चुके हैं, जिन्होंने मानव को संस्कृति का पाठ पढ़ाया। यहाँ ऋषि हुएजिन्होंने वेदों का गान किया। राम हुए, जिन्होंने न्यायपूर्ण शासन का आदर्श स्थापित किया। कृष्ण हुए जिन्होंने गीता गान करके कर्म का पाठ पढ़ाया। यहाँ महावीर और बुद्ध हुए जिन्होंने मानव को अहिंसा की शिक्षा दी। यहाँ महर्षि तिरुवल्लुवर हुए जिन्होंने जीवन के समस्त कर्तव्यों का उपदेश दिया। यहाँ बड़े-बड़े प्रतापी सम्राट हो चुके हैं, जिनमें विक्रमादित्य, चंद्रगुप्त मौर्यअशोक, अकबर आदि की प्रशंसा इतिहास ने की है। आधुनिक काल में गरीबों और पराधीनों का सहारा महात्मा गांधी, विश्व मानवता के प्रचारक रवींद्रनाथ ठाकुर और जवाहरलाल नेहरू इसी देश में जनमे थे।

अन्य लेख

भारत में विभिन्न राज्य हैं। अनेक नगर और गाँव हैं। अनेक जातियों के लोग हैं। रहन-सहन, वेशभूषा और भाषा में भिन्नता होते हुए भी इस देश के निवासियों में एक प्रकार की समान संस्कृति (Common culture) मौजूद है। इसी कारण भारत राष्ट्र (Nation) है। यहाँ की विविधता में एकता (Unity in diversity) इसका भूषण है।

भारत की राजधानी दिल्ली है, राष्ट्रभाषा हिंदी है, सहायक भाषाअंग्रेजी है, राष्ट्रीय चिह्न
अशोक स्तंभ के सिंह हैं, राष्ट्रध्वज चक्रांकित तिरंगा है, राष्ट्रगान ‘जन गण मनहै, राष्ट्रीय गीत वंदेमातरम्’ है, राष्ट्रीय पशु बाघ है, राष्ट्रीय पक्षी मोर है, राष्ट्रपति का चिह्न तुला (Balance) जो न्याय का प्रतीक है और भारत का राजकीय आदर्श वाक्य “सत्यमेव जयते:” है।

Hindi Essay On Bharat 🕺🖼

15 अगस्त, 1947 को भारत को स्वतंत्रता प्राप्त हुई। 26 जनवरी 1950 को भारत संपूर्ण प्रभुत्व संपन्न प्रजातंत्रात्मक गणराज्य बना। इसके उपरांत भारत ने अपनी पंचवर्षीय योजनाएँ बनाई और आर्थिक, औद्योगिक और सामाजिक प्रगति के लिए तीव्र गति से कदम बढ़ाने शुरू किए |विश्व शांति देने के राष्ट्र संघ सदस्य बना में योगदान लिए भारत संयुक्त का और उस संस्था के अनेक उत्तरदायित्वपूर्ण कार्यों में हाथ बंटाने में प्रयत्नशील है। भारत का भविष्य उज्ज्वल है। चाहता वह समस्त संसार के सभी देशों को स्वाधीन देखना है। वह किसी का इलाका नहीं लेना चाहता और न अपना इलाका को देना चाहता । भारत की आकांक्षा है कि विश्व  में मानव प्रेम  से रहें, सभी देशों की दरिद्रता दूर हो और मानवता का कल्याण।

Few Words Of govyojana.in   मुझे उम्मीद है कि आप हमारे लेख को पसंद करेंगे। यदि आप इस पोस्ट का आनंद लेते हैं, तो मैं बहुत आभारी हूं यदि आप इसे किसी मित्र को ईमेल करके या ट्विटर या फेसबुक पर साझा करके इसे फैलाने में मदद करेंगे। कृपया नवीनतम अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारी साइट पर रेगुलर विजिट जारी रखें। हम इस ब्लॉग पर नई और सत्यापित जानकारी प्रदान कर रहे हैं। 📢यदि आपके पास कोई समस्या है या सुझाव चाहते हैं तो आप हमारे टिप्पणी बॉक्स पर टिप्पणी कर सकते हैं। 

 🙍💐🌼🍁 धन्यवाद! कृप्या दोबारा विजिट करे और साझा करें 🎭🌿🌴💽🙏

Post Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *